भारत सरकार
Government of India
Government of India
रक्षा मंत्रालय
Ministry of Defence
रक्षा लेखा नियंत्रक (निधि) मेरठ
Controller of Defence Accounts (Funds) Meerut

मार्ग निर्देश

अभिदताओ के लिए मार्गनिर्देश व अनुदेश
वेतन लेखापरीक्षा कार्यालय के लिए मार्ग निर्देश व अनुदेश
यूनिटों /विरचनाओं /कार्यालयाध्यक्षों के लिए मार्गनिर्देश व अनुदेश

अभिदताओं के लिए मार्गनिर्देश व अनुदेश

निधि - लेखाओं के वार्षिक विवरण (सीसीओ-9) प्राप्त करने पर अभिदाता को चाहिए कि वह उस पर दर्शायी गयी राशि, जन्म की तारीख, नाम व अपने नामिती आदि के सही होने के बारे में अपनी स्वयं की संतुष्टि कर लेवे । यदि कोई गलती हो तो उसकी सूचना लेखा अधिकारी / डीडीपी नियंत्रक के ध्यान में प्राप्ति के तीन महीने के भीतर (आईओएफ डब्लयू पी के मामले में 6 महीनें) लावे।


अभिदाता को मार्च महीने का अपना वेतन प्राप्त करते समय यह सुनिश्च्ति करने के लिये कि उसके वेतन बिल में उसका खाता संख्या सही दिया गया है अपनी निधि खाता सं0 देख लेनी चाहिए क्योंकि यही खाता संख्या लेखांकन वर्ष के दौरान निधि अभिदान डाटा के लिए प्रयोग में लायी जाती है।

वर्ष के दौरान अस्थायी अग्रिम/आहरणों के मामले में, निधि अभिदाता को यह सत्यापित कर लेना चाहिए कि इन्हें निधि लेखाओं के वार्षिक विवरण में सही दर्शाया गया है। यदि लापता डेबिट का कोई मामला हो,तो इसे तुरन्त यूनिट/विरचना/वेतन लेखापरीक्षा कार्यालय के माध्यम से निधि अनुरक्षण प्राधिकारी की जानकारी में लाया जाना चाहिए ताकि उसका निपटारा आगामी लेखांकन वर्ष में हो जाये । अभिदाता को यह सलाह भी दी जाती है कि वह यह देखे कि लापता डेबिट उत्तरवर्ती लेखांकन वर्ष में सही समायोजित हो गया है। इससे अभिदाता के निधि खाते की समीक्षा/अंतिम निपटारे के समय संचयी व्यय व मूल डेबिट राशि की वसूली से उसका बचाव हो जाता है।


निधि खाते के वार्षिक विवरण में दिखाए गये अधिक क्रेडिट के मामले में भी अभिदाता को अपनी यूनिट/विरचना/वेतन लेखापरीक्षा कार्यालय के माध्यम से निधि अनुरक्षण प्राधिकारी की जानकारी में लाया जाना चाहिए जिससे कि वह आगामी लेखांकन वर्ष में समायोजित हो सके। इससे समीक्षा/अंतिम निपटारे के समय संचयी ब्याज व अतिरिक्त क्रेडिट की वसूली से अभिदाता का बचाव हो जाता है।


   
 











Home
I Profile Introduction I Subscribers I Guidelines I Downloads I Photo Gallery I FAQ's I Feedback/Complaint I Contact I

Hit Counter